सांस्कृतिक एवं वैदिक शोध केन्द्र

विद्वानों के लिए वेदों पर आधारित समस्त अध्ययन हेतू ग्रन्थ एवं साहित्य रखा जायेगा| ताकि वेदों पर खोज करने वालें विद्वान एवं विद्यार्थी उसका लाभ ले सके| हमारी सांस्कृतिक विरासत को आने वाली पीढ़ी को वेदों के अध्ययन से धर्म के बारे मे संस्कार का ज्ञान प्रदान कर सके | इस शोध केन्द्र की स्थापना एवं सफल प्रबंधन से माधव सेवा न्यास एक वैदिक शोध संस्थान के रूप में आने वाले समय मे स्थापित होगा, जो उज्जैन एवं देश को गौरवान्वित करेगा|