वृक्षारोपण

माधव सेवा न्यास द्वारा दिनांक ६-८-२०१३ को उज्जैन से जोड़ने वाले सभी ७ मार्ग एवं ३ उप मार्गो पर ५० फीट की दूरी के अंतराल पर मार्ग के दोनों तरफ १२,००० पौधों रौपे गए | समाज के सहयोग से रोपित इन पौधों को समाज के ही लोगो ने गोद लेकर, पूजन-पाठ एवं विधि विधान से इन पौधों को रोपित किया तथा आजीवन इसकी देखभाल की जिम्मेदारी का भी संकल्प लिया | इसके लिए उन्होंने न्यास को संकल्प पत्र भरकर दिया | अपेक्षा यह थी की वर्ष २०१६ के सिहंस्थ व उसके पश्चात् उज्जैन आने वाले यात्रियों को ५-१० किलोमीटर पहले से ही सड़क के दोनों किनारों पर छायायुक्त सुरम्य हरियाली एवं हवादार वातावरण देखने को मिले | इस पुरे अभियान मे हजारों समाजजनो का सहभाग रहा | न्यास भी इन सभी रोपित पौधों की समय-समय पर यथासंभव देखभाल करता है |

“परितः आवरणं” पर्यावरण अर्थात् हमारे आसपास का जो आवरण है यही पर्यावरण है और हमारे आसपास का आवरण स्वच्छ, शुद्ध, स्वस्थ्य एवं सुखी तथा आनंदित रखने वाला हो, उसका प्रयत्न हम सभी को सदैव करते रहना चाहिए |